Wednesday, January 25, 2012

हर चेहरा यहां बिकाऊ है----

परचून की पुड़िया पर आनंदी की मुस्कान देखकर आप भी शायद यही कहेंगे कि...जी चेहरा बिकता है...। शायद यही वजह है कि आजकल हर कोई फिल्म और टेलीविजन से जुड़कर काम करना चाहता है..क्योंकि काम भले न रह जाए ऐड तो मिल ही जाएंगे...। कुछ दिन पहले उर्मिला मातोंडकर को भी पताका चाय के ऐड में देखा था और फिर ये....हालांकि अविका गौड़ के परिपेक्ष्य में ये बात गलत है और उनके पास काम की कोई कमी नहीं है अब वो अलग बात है कि १६ की उम्र में वो सास-बहू वाले किरदार निभा रही हैं...। पर लोकल मार्केट में अविका के नाम का डंका है.....परचून की पुड़िया पर बस उनके चेहरे से ही बिक्री बढ़ गई है..बच्चे दुकानदार से कहते हैं, भइया मुझे आनंदी वाला चूरन दे दीजिए और फिर बैठकर हिसाब करते हैं कि किसके पास कितनी फोटु हो गई है..। 
लेकिन ये ट्रेंड लोकल मार्केट में पैदा नहीं हुआ...आपको याद होगा,जिस वक्त रितिक रोशन ने डेब्यू किया था उस वक्त कोका-कोला कंपनी आधे लीटर की बोतल के साथ रितिक की एक कार्ड साइज़ फोटो देते थे...कोका-कोला का मार्केट प्लान अब बहते-तैरते लोकल बाजार में आ गया है...। परचून की दुकान पर आनंदी की फोटो से जहां इस लोकल पचनौल का मार्केट बढ़ा है वहीं...ये भी पता चलता है कि कि एक सीरियल ने अविका उर्फ आनंदी को कितना पाप्यूलर  बना दिया है.....।

पचनौल के पाउच पर आनंदी की फोटो.....ये चेहरा आजकल गुमटी मार्केट की जान है......

और परचून विथ वेरायटी...अगर आपको आनंदी और जगिया की जोड़ी पसंद है तो आपको उदास होने की ज़रूरत नहीं है...सासु मां के साथ ,सुगना जीजी के साथ,दादी सा विथ आनंदी, विथ फूली और लगभग हर वेरायटी..हर रिश्ते के साथ। लेकिन हरएक पचनौल पुड़िया में आनंदी का चेहरा आपको ज़रूर दिखेगा....।

आजकल नोएडा की गलियों में घूमने का काम जोरों पर चल चल रहा है...बेरोज़गारी में शायद इंसान सबसे ज्यादा मेहनत करता है...। लेकिन पैसा छोड़कर बहुत कुछ मिल रहा है....सीखने को...और चलते-चलते जहां कदम रूक जाते हैं वहां एक कैमरा क्लिक करके उस दिन  का मेहनताना समझ लेती हूं..पहले आनंदी मिली और अब बटिस्टा...।एक बेहद देसी और जमीनी धरातल का चेहरा और दूसरा विदेशी


ये चेहरा विदेशी जरूर है..पर कम पाप्यूलर कम नहीं है...। मेरे लिए तो रेसलिंग में कुछ ही नाम और कुछ ही चेहरे हैं जो पहचान पाती हूं...। बटिस्टा का ये पोस्टर नोएडा के एक चौराहे पर टंगा मिला...अच्छा मज़े बात ये है कि अगर किसी मस्क्युलर मैन को ही ब्राड अंबेसडर बनाना था तो खली को क्यों नहीं बनाया...? खैर अपना प्रोडक्ट अपना ब्रांड अंबेसडर...। लेकिन सोच के धनी इस पहलवान ने बटिस्टा के साथ खूब खेल किया है..बेचारे की हड्डी तोड़ कर उसे चौराहे पर टांग दिया है....। लेकिन इससे एक बात और भी साफ होती है कि अपने देश में विदेशी चेहरे आज भी उत्सुकता पैदा करते हैं...और जहां उत्सुकता है वहां रूचि है..और जहां रूचि है वहां खोज है...और फाइनली जहां खोज है..वहां मार्केट है...और मार्केट है तो खरीद-फरोख्त है....
                           और ये चेहरे उसका नमूना....उदाहरण......   


बटिस्टा का ये पोस्टर आपको हंसाता भी है और सोतने पर मजबूर भी करता है कि...आज हर प्रोडक्ट बिक सकता है  बस ज़रूरत है एक चेहरे की....

फोटो देखकर ब्रांड और ब्रांड अंबेसडर की कैमेस्ट्री तो समझ आई लेकिन राह चलते ही एक नया ठिकाना मिल गया जहां.....कमर दर्द,अकड़न,सूजन और मोच का इलाज करवाया जा सकता है....। 









8 comments:

Ashwini Kumar said...

nice blog... ittefaqan maine bhi apni zindagi ghazipur se shuru kar ke delhi/noida tak ka safar tay kiya hai... iss daramyan khanabadoshi bhi hamare hisse mein aayi...

Ashwini Kumar said...

http://imashwini.blogspot.com/search?q=ghazipur

चंदन कुमार मिश्र said...

भाई! हम इन सबसे अनजान ही रहते हैं कि क्या किस चैनल पर आ रहा है, खासकर ऐसे रद्दी चैनलों पर!

उसी तरह अपना खेल विभाग पूरा गड़बड़ है!

P.N. Subramanian said...

सुन्दर पोस्ट. हमें भी देख कर कमर में दर्द होने लगा.

Atul Shrivastava said...

विज्ञापनों का जमाना है।
बढिया पोस्‍ट।

गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएं....

जय हिंद...वंदे मातरम्।

Rahul Singh said...

बाजार और चाल-चलन की यही गति है.

Dp's Ranjan said...

very nice written,,:)

Anonymous said...

greetings battkuchni.blogspot.com owner found your site via Google but it was hard to find and I see you could have more visitors because there are not so many comments yet. I have found website which offer to dramatically increase traffic to your site http://xrumer-services.net they claim they managed to get close to 4000 visitors/day using their services you could also get lot more targeted traffic from search engines as you have now. I used their services and got significantly more visitors to my website. Hope this helps :) They offer most cost effective services to increase website traffic Take care. Roberto

Popular Posts